केजरीवाल सरकार का नया कदम : आनंद विहार में स्मॉग से लड़ने उतरा एंटी स्मॉग गन

138

अरविंद केजरीवाल सरकार ने दिल्ली के स्मॉग से निपटने के लिए कमर कस ली है. सरकार अब एंटी स्मॉग गन के जरिए जरीली हवा से निपटने की कोशिश कर रही है. सर्दियों में प्रदूषण और ठंड से होने वाले स्मॉग से निपटने की दिल्ली सरकार ने तैयारी शुरू कर दी है। दिल्ली-एनसीआर कुछ दिन मौसम साफ रहने के बाद फिर स्मॉग में लिपट गया है. अब दिल्ली सरकार ने इससे निपटने के लिए एंटी-स्मॉग गन का सहारा लेने का फैसला लिया है.

सोमवार को दिल्ली सेक्रेटेरियट में किया गया टेस्ट
दिल्ली सेक्रेटेरियट में एंटी स्मॉग गन की टेस्टिंग की गई. उस दौरान दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया और पर्यावरण मंत्री इमरान हुसैन मौजूद थे. लेकिन अधिकारियों की मानें तो इस डिवाइस को यूज करने के लिए अभी और टेस्टिंग की जरूरत है. बता दें, इस डिवाइस की कीमत 20 लाख है. इस मशीन को बनाने वाली कंपीन क्लाउड टेक के निर्माता का कहना है कि इस डिवाइस से पानी की बौछार 50 मीटर ऊपर तक जा सकती है.

अगर इस गन का ट्रायल सफल होता है, तो इसे दिल्ली सरकार की ओर से प्रदूषण के खिलाफ उठाए जा रहे कई कदमों में से एक बड़ा कदम माना जा सकता है.

क्या होता है एंटी-स्मॉग गन?

इस गन को पानी की टंकी से जोड़ा गया है. जिससे स्मॉग गन हवा में पानी की बेहद महीन बौछार करता है. हवा में पानी जाने से जहरीले कण और धूल के कण जो प्रदूषण को बढ़ाते हैं वह नमी के साथ गिर कर नीचे बैठ जाएंगे. एंटी स्मॉग गन एक ऐसा विशाल डिवाइस है, जो एक बड़े व्हीकल पर एक वॉटर टैंक से जु़ड़ा होता है. ये डिवाइस हवा में 50 मीटर ऊपर तक पानी की बौछार छोड़ सकता है. पानी के कण प्रदूषण के कणों से चिपक जाते हैं और पानी के साथ नीचे आ जाते हैं.

स्मॉग से बचने के लिए चीन भी यह तरीका अपना चुका है. इससे प्रदूषण दो दिन में 20 फीसदी तक कम हो गया था. बीजिंग ने ये कदम अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के दौरे को लेकर उठाया था.

आज किया गया आनंत विहार में
दिल्ली के आनंद विहार इलाके में स्मॉग गन का ट्रायल किया गया. बता दें, आनंद विहार को सबसे प्रदूषित क्षेत्र माना जाता है. इसलिए इसे चुना गया है. ये उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद जिले से सटा हुआ है.

अगर आनंद विहार की हवा में एंटी स्मॉग गन का ट्रायल अगर सफल होता है तो दिल्ली सरकार को राजधानी में प्रदूषण से निपटने के लिए एक बड़ा औजार मिल जाएगा. स्मॉग से निपटने के लिए सरकार ने कई योजनाओं की घोषणा की थी, जिसमें ऑड-ईवन, अधिकांश वाणिज्यिक ट्रकों पर प्रतिबंध, निर्माण गतिविधियों को रोकना और कार पार्किंग शुल्क में चार गुना बढ़ोतरी शामिल थी.

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App

Leave A Reply

Your email address will not be published.